What is Nakshtra and benifit ?
अगर आप भी जानना चाहते है की आपकी कुंडली में कौन सा नक्षत्र है तो आज ही यहाँ से अपनी रिपोर्ट निकाले - https://www.foresightindia.com/basichoro/C1 डाउनलोड करे 
यहाँ से जानिये अपनी नक्षत्र वो भी फ्री में : https://bit.ly/2GuDRV0
आज के समय में हर व्यक्ति परेशान रहता है, कोई नौकरी को लेकर तो कोई अपने कॅरियर ,बिज़नेस आदि समस्याओ को लेकर , वैदिक ज्योतिष में नक्षत्रों का विशेष महत्व है।आपके जन्म के समय चन्द्रमा जिस नक्षत्र में स्थित होता है , वही आपका जन्म नक्षत्र कहलाता है ।
नक्षत्र शब्द संस्कृत भाषा से लिया गया है और यह दो अलग-अलग शब्दों से बना है जो कि ‘नक्स’ और ‘शतर’ हैं। नक्स’ शब्द का अर्थ है ‘आकाश’ और ‘शतर’ शब्द का अर्थ है ‘क्षेत्र’ जो कि एक साथ आकाश का क्षेत्र दर्शाता है।आपके जन्म के समय चन्द्रमा जिस नक्षत्र में स्थित होता है , वही आपका जन्म नक्षत्र कहलाता है । ज्योतिष शास्त्र में विभिन्न प्रकार के नक्षत्रों का जिक्र किया गया है। ये सभी नक्षत्र जितने महत्वपूर्ण हैं उतने ही वैयक्तिक के जीवन पर भी असर डालते हैं। आपको यकीन नहीं होगा लेकिन ये सच है कि जिस नक्षत्र में इंसान जन्म लेता है वह नक्षत्र उसके स्वभाव और आगामी जीवन पर अपना असर जरूर छोड़ता है।ज्योतिष के अनुसार ऐसा माना जाता है कि व्यक्ति का जीवन उसकी जन्म कुंडली के अनुसार चलता है। कब अच्छा समय आएगा और कब समस्याओं का सामना करना पड़ेगा, यह सब कुंडली में नक्षत्र को देखकर जाना जा सकता है।नक्षत्र के द्वारा आप ये भी जान सकते हैं कि किस क्षेत्र में कॅरियर बनाना आपके लिए फायदेमंद होगा।नक्षत्र आपके भाग्य को भी दर्शाता है कि आप कितने भाग्यशाली हैं।ज्योतिष विशेषज्ञों का कहना है कि इन 27 नक्षत्र में से आपका जन्म किस नक्षत्र में हुआ है, इसके आधार पर अगर लेकिन आज हम बात क्र रहे है कुंडली के नक्षत्र के द्वारा आपको किस क्षेत्र में कॅरियर बनाना आपके लिए फायदेमंद होगा।आप अपने कॅरियर का निर्धारण करेंगे तो आपको सफलता अवश्य मिलेगी।
नक्षत्र 27 प्रकार के होता है | जिसमे कुछ शुभ नक्षत्र और अशुभ नक्षत्र और कुछ माध्यम प्रकार के नक्षत्र होते है | ज्योतिष विशेषज्ञों का कहना है कि इन 27 नक्षत्र में से आपका जन्म किस नक्षत्र में हुआ है, इसके आधार पर अगर आप अपने कॅरियर का निर्धारण करेंगे तो आपको सफलता अवश्य मिलेगी।
जैसे की अश्विनी नक्षत्र -अश्विनी नक्षत्र में जन्मे लोग हमेशा ऊर्जावान होने के सथ-साथ हमेशा सक्रिय रहना पसंद करते है।अगर यातायात से जुड़ा कोई कार्य करेंगे तो उन्हें सफलता मिलेगी।और इसके अलावा खेल, दवाइयां, कृषि, जिम, जौहरी, सुनार आदि से संबंधित क्षेत्र भी फायदा पहुंचाएंगे।
जैसे की हम जानते है की एक नक्षत्र में चार पद होते है :
अश्विनी नक्षत्र के प्रथम पद में जन्मे जातक से पिता को कष्ट व भय होता है ,
दुतिये पद में जन्मे जातक से परिवार में सुख मिलता है ,
तृतीये पद में जन्मे जातक से उच्चे पद के जॉब मिलते है
और चौथे पद में जन्मे जातक को परिवार में खुशिया ही खुशिया मिलती है
तो आप आज ही अपना नक्षत्र जाने free में : https://bit.ly/2GuDRV0